पारिवारिक विघटन में अपने वजूद को तलाशते “भगवान” की कहनी “इल्हाम”

“इल्हाम” नाटक का दृश्य

16 अगस्त, 2019, सायं 5:30 बजे, शुक्रवार को मानव कौल लिखित और साहिल आहूजा निर्देशक नाटक “इल्हाम” का मंचन द अटिक, 36, रीगल बिल्डिंग, सीपी, नई दिल्ली (The Attic, 36, Regal Building, CP, New Delhi) में होगा। नाटक के पास के लिए 9560342266 (WhatsApp) पर संपर्क करें।

यह कहानी एक मध्यवर्गीय परिवार के मुखिया ‘भगवान’ जो पारिवारिक विघटन में अपने वजूद को तलाश रहा है। आज उसके परिवार में उसकी बातों को समझने वाला कोई नहीं, वह पार्क में बैठ कर चड़ियों से बातें करने लगा, वो गूंगे भिखारी के भाषा समझने लगा, लेकिन उसके अपने परिवार वालों को उसकी भाषा समझ नहीं आ रही है।

वो हर रोज एक सुनसान पार्क अकेले बैठता है। अब वह काम पर नहीं जाता। उसे पार्क में लोगों ने अकेले बड़बड़ाते देखा, कभी खेलते हुए तो कभी अखबार हवा में घुमाते हुए, वह अजीब हरकते करते लगा है। लोग को लगता है की उसके ऊपर भूत प्रेत का साया है या कहीं ‘ भगवान ‘ पागल तो नहीं हो गया ?

“इल्हाम” नाटक का दृश्य

जानिए ऐसे ही कई सवालों के जवाब #MukhavaranTheatreGroup की अगली प्रस्तुति ” इल्हाम ” में 16 अगस्त, 2019, सायं 5:30 बजे, शुक्रवार को द अटिक, 36, रीगल बिल्डिंग, सीपी, नई दिल्ली (The Attic, 36, Regal Building, CP, New Delhi) में होगा। नाटक के पास के लिए 9560342266 (WhatsApp) पर संपर्क करें।

The News Diary Online

The News Diary is a online News Portal. The News Diary news portal covers latest news in politics, entertainment, Bollywood, business, sports, health & art and culture . Stay tuned for all the breaking news.

Leave a Reply

Next Post

पलायन के दंश झेलती नारी जीवन और मातृत्व भाव का सजीव चित्रण है, नाटक "गबरघिचोर"

Thu Aug 22 , 2019
ग्रामीण परिदृश्य को उकेरता नाटक “गबरघिचोर” भोजपुरी के शेक्सपियर भिखारी ठाकुर द्वारा लिखित कालजयी रचनाओं में से एक है। लोक विधा में संगीबद्ध नाटक “गबरघिचोर” गांव को छोड़ शहर चले जाने वाले युवाओं के जीवन और उसके पारीवारिक सम्बन्धों में आय उलट-फेर को दिखता है। संगीतमय लयवद्ध भोजपुरी व्यंग्य रचना […]

Breaking News

%d bloggers like this: